Sunday, May 18, 2014

थोड़ा सा रूमानी हो जाये.....

आज मेरे मित्र डा.पवन मिश्रा और पूजा कनुप्रिया ने मुझे उलाहना देते हुए कहा कि मैं सिर्फ राजनैतिक पोस्ट लिखता हूँ और श्रृंगार के प्रति भावशून्य हो गया हूँ ! तब मुझे आभास हुआ कि किसी हद तक यह सत्य भी है । उनकी प्रेरणा पर कुछ पंक्तियाँ लिखी जो लिखते लिखते ग़ज़ल बन गयी...

बस यही काम मुझे याद रहा,
एक तेरा नाम मुझे याद रहा !
वो तेरे साथ बिताया हुआ हर एक लम्हा,
वो सहरो-शाम मुझे याद रहा !
मेरी आँखों से ख्वाब छीन लिए थे जिसने,
वो मिरा इश्क-ऐ-नाकाम मुझे याद रहा !
तुझे तन्हाईयों में ढूंढता रहता हूँ मैं,
तेरा वो अक्स-ए-गुलफाम मुझे याद रहा !
तेरी चाहत न मिली चार दिनों तक भी फकत,
रहा मैं उम्र भर बदनाम मुझे याद रहा !
तेरे जाने के बाद किसके सहारे जीता,
महफ़िल-ऐ-जाम, सरेआम मुझे याद रहा !
बस यही काम मुझे याद रहा,
एक तेरा नाम मुझे याद रहा !

:::::अम्बेश तिवारी

Post a Comment