Friday, August 5, 2016

बड़ा ही मुश्किल है !

किसी से दिल का लगाना बड़ा ही मुश्किल है
आज कल मिलना मिलाना बड़ा ही मुश्किल है,
दूर जो रहता है वो दौड़ के आ जाएगा,
पास वालों को बुलाना बड़ा ही मुश्किल है !
ग़मों का बोझ इस कदर बढ़ा है चेहरे पर,
आज कल हँसना हँसाना बड़ा ही मुश्किल है !
प्राइवेट नौकरी और उसपे यह महँगाई की मार,
इस तरह घर को चलाना बड़ा ही मुश्किल है !
मंच पर आजकल बस चुटकुले ही चलते हैं,
दिल की कविताएं सुनाना बड़ा ही मुश्किल है !
कहीं भी इतनी मोहब्बत न मिलेगी तुझको,
यह वतन छोड़ के जाना बड़ा ही मुश्किल है !
तालियां ही नहीं पेमेंट भी देना वरना,
फिर से 'अम्बेश' का आना बड़ा ही मुश्किल है !

--------अम्बेश तिवारी "अम्बेश"

Post a Comment